Breaking News

Category Archives: Uncategorized

उत्तर प्रदेश – अयोध्या में भटक रही थी लड़की , पुलिस ने गूगल की मदद से घरवालों से मिलाया

गूगल बिछड़ों को अपनों से मिला भी देता है, ऐसा ही कुछ हुआ अयोध्या में. यहां भटक रही एक युवती को पुलिस ने गूगल की मदद से उसके घरवालों से मिला दिया. दिमागी रूप से कमजोर ये युवती अपने बारे में कुछ भी नहीं बता पा रही थी. इसके बाजू में ‘सुखमती’ गुदा हुआ था, इससे पुलिस ने ये अंदाज लगा लिया कि इसका नाम सुखमती है.

पुलिस एक हफ्ते तक इस युवती से और जानकारी लेने की कोशिश करती रही, लेकिन कुछ खास नहीं पता चल सका. युवती सुखमती के अलावा कागज पर टेढ़े-मेढ़े दो और शब्द और लिखती थी. उसकी लिखावट को पढ़ना भी मुश्किल था.

फैजाबाद महिला थाना अध्यक्ष प्रियंका पांडेय के मुताबिक युवती क्या लिख रही थी, उससे मुश्किल से समझ में आया- ‘बसना’ और ‘महासमुंद’. महिला थानाध्यक्ष ने इन शब्दों को गूगल पर सर्च किया. देश के छत्तीसगढ़ राज्य के महासमुंद जिले में बसना नाम का एक कस्बा नजर आया. महिला थानाध्यक्ष ने बसना पुलिस स्टेशन से संपर्क किया तो पता चला कि वहां सुखमती नाम की युवती की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज है.

फिर बसना थाने की पुलिस ने युवती के घरवालों को लेकर फैजाबाद महिला थाने में पहुंचने में देर नहीं लगाई. महासमुंद से फैजाबाद की दूरी 800 किलोमीटर है. गुमशुदा युवती ने जैसे ही मां को देखा दौड़ कर उसके गले लिपट गई. युवती की मां ने बताया कि युवती का मानसिक इलाज चल रहा है. वो घर से सब्जी लेने निकली थी, उसके बाद से उसका कोई पता नहीं चल रहा था. थक हार कर 19 मार्च को बसना पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई.

महाराष्ट्र- उद्धव ठाकरे का फडणवीस को जवाब पहली बार किसी ने ठाकरे परिवार को झूठा कहा

मुम्बई – महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के परिणाम आए आज दो हफ्ते हो चुके हैं, लेकिन अभी भी राज्य में सरकार गठन को लेकर किसी भी पार्टियों के बीच समझौता होता नहीं दिख रहा है. वहीं, देवेंद्र फडणवीस ने आज राजभवन में राज्‍यपाल से मिलकर मुख्‍यमंत्री पद से इस्‍तीफा दे दिया है. महाराष्ट्र में मचे सियासी घमासान के बीच कांग्रेस ने बीजेपी पर आरोप लगाया है कि कुछ नेताओं ने कांग्रेस के विधायकों को तोड़ने के लिए 25 करोड़ का ऑफर दिया है. हॉर्स ट्रेडिंग के डर से कांग्रेस ने अपने विधायकों को मुंबई से जयपुर भेज दिया है. सभी कांग्रेस विधायकों को जयपुर के ‌एक रिजॉर्ट में ठहराया गया है.

इसी बीच खबर आ रही है कि बीजेपी के केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी आज शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मिलने जा सकते हैं. उधर शिवसेना के नेता संजय राउत ने साफ कहा है कि अगर बीजेपी सीएम पद देने को तैयार हो तो ही उनसे मिलने के लिए आए. खबर है कि शिवसेना बीजेपी के बीच अभी भी किसी तरह की बातचीत नहीं हुई हैं. हालांकि, महाराष्ट्र की बदलती राजनीति पर राज्यपाल लगातार नजर जमाए हुए हैं.

इस बीच कांग्रेस ने हॉर्स ट्रेडिंग की आशंका जाहिर की है. कांग्रेस का कहना है कि उनके विधायकों को तोड़ने की कोशिश हो रही है. खबर है कि कांग्रेस अपने विधायकों को जयपुर के किसी होटल में शिफ्ट कर रही है. इसके पहले हार्स ट्रेडिंग के डर से शिवसेना ने भी अपने विधायकों को होटल में शिफ्ट करा दिया है.

धनतेरस के दिन कैसे करें मां लक्ष्‍मी की पूजा?

धनतेरस के दिन प्रदोष काल में मां लक्ष्‍मी की पूजा करनी चाहिए. इस दिन मां लक्ष्‍मी के साथ महालक्ष्‍मी यंत्र की पूजा भी की जाती है. धनतेरस पर इस तरह करें मां लक्ष्‍मी की पूजा:
 सबसे पहले एक लाल रंग का आसन बिछाएं और इसके बीचों बीच मुट्ठी भर अनाज रखें.
 अनाज के ऊपर स्‍वर्ण, चांदी, तांबे या मिट्टी का कलश रखें. इस कलश में तीन चौथाई पानी भरें और थोड़ा गंगाजल मिलाएं.
 अब कलश में सुपारी, फूल, सिक्‍का और अक्षत डालें. इसके बाद इसमें आम के पांच पत्ते लगाएं.
 अब पत्तों के ऊपर धान से भरा हुआ किसी धातु का बर्तन रखें.
 धान पर हल्‍दी से कमल का फूल बनाएं और उसके ऊपर मां लक्ष्‍मी की प्रतिमा रखें. साथ ही कुछ सिक्‍के भी रखें.
 कलश के सामने दाहिने ओर दक्षिण पूर्व दिशा में भगवान गणेश की प्रतिमा रखें.
 अगर आप कारोबारी हैं तो दवात, किताबें और अपने बिजनेस से संबंधित अन्‍य चीजें भी पूजा स्‍थान पर रखें.
 अब पूजा के लिए इस्‍तेमाल होने वाले पानी को हल्‍दी और कुमकुम अर्पित करें.
 इसके बाद इस मंत्र का उच्‍चारण करें

ॐ  श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलिए प्रसीद प्रसीद |
ॐ  श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्मिये नम: ||

– अब हाथों में पुष्‍प लेकर आंख बंद करें और मां लक्ष्‍मी का ध्‍यान करें. फिर मां लक्ष्‍मी की प्रतिमा को फूल अर्पित करें.
 अब एक गहरे बर्तन में मां लक्ष्‍मी की प्रतिमा रखकर उन्‍हें पंचामृत (दही, दूध, शहद, घी और चीनी का मिश्रण) से स्‍नान कराएं. इसके बाद पानी में सोने का आभूषण या मोती डालकर स्‍नान कराएं.
 अब प्रतिमा को पोछकर वापस कलश के ऊपर रखे बर्तन में रख दें. आप चाहें तो सिर्फ पंचामृत और पानी छिड़ककर भी स्‍नान करा सकते हैं.
 अब मां लक्ष्‍मी की प्रतिमा को चंदन, केसर, इत्र, हल्‍दी, कुमकुम, अबीर और गुलाल अर्पित करें.
 अब मां की प्रतिमा पर हार चढ़ाएं. साथ ही उन्‍हें बेल पत्र और गेंदे का फूल अर्पित कर धूप जलाएं.
 अब मिठाई, नारियल, फल, खीले-बताशे अर्पित करें.
 इसके बाद प्रतिमा के ऊपर धनिया और जीरे के बीज छिड़कें.
– अब आप घर में जिस स्‍थान पर पैसे और जेवर रखते हैं वहां पूजा करें.
 इसके बाद माता लक्ष्‍मी की आरती उतारें.

मां लक्ष्‍मी की आरती
ॐ जय लक्ष्मी माता,मैया जय लक्ष्मी माता ।
तुमको निसदिन सेवत,हर विष्णु विधाता ॥

उमा, रमा, ब्रम्हाणी,तुम ही जग माता ।
सूर्य चद्रंमा ध्यावत,नारद ऋषि गाता ॥॥ॐ जय लक्ष्मी माता…॥

दुर्गा रूप निरंजनि,सुख-संपत्ति दाता ।
जो कोई तुमको ध्याता,ऋद्धि-सिद्धि धन पाता ॥॥ॐ जय लक्ष्मी माता…॥

तुम ही पाताल निवासनी,तुम ही शुभदाता ।
कर्म-प्रभाव-प्रकाशनी,भव निधि की त्राता ॥॥ॐ जय लक्ष्मी माता…॥

जिस घर तुम रहती हो,ताँहि में हैं सद्‍गुण आता ।
सब सभंव हो जाता,मन नहीं घबराता ॥॥ॐ जय लक्ष्मी माता…॥

तुम बिन यज्ञ ना होता,वस्त्र न कोई पाता ।
खान पान का वैभव,सब तुमसे आता ॥॥ॐ जय लक्ष्मी माता…॥

शुभ गुण मंदिर सुंदर,क्षीरोदधि जाता ।
रत्न चतुर्दश तुम बिन,कोई नहीं पाता ॥॥ॐ जय लक्ष्मी माता…॥

महालक्ष्मी जी की आरती,जो कोई नर गाता ।
उँर आंनद समाता,पाप उतर जाता ॥॥ॐ जय लक्ष्मी माता…॥

टिप्पणियां

ॐ जय लक्ष्मी माता,मैया जय लक्ष्मी माता ।
तुमको निसदिन सेवत,हर विष्णु विधाता ॥

धनतेरस, इस शुभ मुहूर्त पर करें खरीददारी

 धनतेरस हिन्‍दुओं के प्रमुख त्‍योहार दीपावली पर्व का पहला दिन है.  इस बार धनतेरस 25 अक्‍टूबर को है. मान्‍यता है कि क्षीर सागर के मंथन के दौरान धनतेरस के दिन ही आयुर्वेद के देवता भगवान धन्‍वंतरि का जन्‍म हुआ था. इस दिन माता लक्ष्‍मी, भगवान कुबेर और भगवान धन्‍वंतरि की पूजा का विधान है. इसके अलावा धनतेरस के दिन मृत्‍यु के देवता यमराज की पूजा भी की जाती है. इस दिन सोने-चांदी के आभूषण और बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है. धनतेरस दीपावली पर्व की शुरुआत का प्रतीक भी है. इसके बाद छोटी दीपावली या नरक चौदस बड़ी या मुख्‍य दीपावली गोवर्द्धन पूजा और अंत में भाई दूज या भैया दूज का त्‍योहार मनाया जाता है. धनतेरस से एक दिन पहले रमा एकादशी पड़ती है.धनतेरस का पर्व हर साल दीपावली से दो दिन पहले मनाया जाता है. हिन्‍दू कैलेंडर के मुताबिक कार्तिक मास की तेरस यानी कि 13वें दिन धनतेरस मनाया जाता है. ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार यह पर्व हर साल अक्‍टूबर या नवंबर महीने में आता है. इस बार धनतेरस 25 अक्‍टूबर को है.धनतेरस की तिथि और शुभ मुहूर्त
धनतेरस की तिथि: 
25 अक्‍टूबर 2019
त्रयोदशी तिथि प्रारंभ: 25 अक्‍टूबर 2019 को शाम 07 बजकर 08 मिनट से
त्रयोदशी तिथि समाप्‍त: 26 अक्‍टूबर 2019 को दोपहर 03 बजकर 36 मिनट
धनतेरस पूजा मुहूर्त: 25 अक्‍टूबर 2019 को शाम 07 बजकर 08 मिनट से रात 08 बजकर 13 मिनट तक
अवधि: 01 घंटे 05 मिनट

प्लास्टिक से पर्यावरण को बचाने छात्र कर रहा साइकल यात्रा

रीवा | सिंगल यूज प्लास्टिक पूरी तरह से प्रतिवंधित जनजागरण अभियान एवं पर्यावरण संरक्षण को लेकर पर्यावरण विषय के शोधार्थी छात्र अमित तिवारी के द्वारा जिले भर में साइकल यात्रा आज से की जा रही है इस दौरान वे प्लास्टिक से मानव स्वास्थ्य पर पड़ रहे दुष्प्रभाव की जानकरी जन जन तक पहुचयेंगे |

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रभावित होकर रीवा के अवधेश प्रताप सिंह विश्व विद्यालय के शोधार्थी छात्र अमित तिवारी ने पर्यावरण को बचाने और प्लास्टिक के दुष्प्रभाव को जन जन तक पहुंचाने के लिए आज से साइकल यात्रा शुरू की है जो जिले के हर तहसील तक जाएगी , रोजाना 50 से 60 किलोमीटर तक अकेले ही साइकल चलाने के बाद अमित स्कूल व कालेज को छात्रों के बीच पहुंच पर्यावरण व प्लास्टिक से नुक्सान के बारे में बताएँगे साथ ही राह चलते लोगो को पम्पलेट भी देंगे जिसमे प्लास्टिक से नुक्सान की जानकारी होगी | अमित के इस फैसले पर उनके विभागाध्यक्ष ने भी खुसी जाहिर करते हुए कहा की पर्यावरण को लेकर यह रीवा में पहली और अच्छी कोशिस है |

नारियल के 10 चमत्कारिक उपाय

* ऋ‍ण उतारने के लिए : एक नारियल पर चमेली का तेल मिले सिन्दूर से स्वस्तिक का चिह्न बनाएं। कुछ भोग (लड्डू अथवा गुड़-चना) के साथ हनुमानजी के मंदिर में जाकर उनके चरणों में अर्पित करके ऋणमोचक मंगल स्तोत्र का पाठ करें। तत्काल लाभ प्राप्त होगा।
*दूसरा उपाय
दशहरे के दिन सुबह नित्य कर्म व स्नान आदि करने के बाद अपनी लंबाई के अनुसार काला धागा लें और इसे एक नारियल पर लपेट लें। इसका पूजन करें और उसको नदी के बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें। साथ ही भगवान से ऋण मुक्ति के लिए प्रार्थना करें।
* व्यापार लाभ के लिए : कारोबार में लगातार घाटा हो रहा हो तो दशहरे के दिन एक नारियल सवा मीटर पीले वस्त्र में लपेटकर एक जोड़ा जनेऊ, सवा पाव मिष्ठान्न के साथ आस-पास के किसी भी राम मंदिर में चढ़ा दें। तत्काल ही व्यापार चल निकलेगा।
* यदि रुपया टिक नहीं पा रहा हो या सेविंग नहीं हो पा रही हो तो परिवार आर्थिक संकट में घिर जाता है। ऐसे में दशहरे के दिन माता लक्ष्मी के मंदिर में एक जटावाला नारियल, गुलाब, कमल पुष्प माला, सवा मीटर गुलाबी, सफेद कपड़ा, सवा पाव चमेली, दही, सफेद मिष्ठान्न एक जोड़ा जनेऊ के साथ माता को अर्पित करें। इसके पश्चात मां की कपूर व देसी घी से आरती उतारें तथा श्रीकनकधारा स्तोत्र का जाप करें। आर्थिक समस्याओं से छुटकारा मिलेगा।
* कालसर्प या शनि दोष हेतु : शनि, राहू या केतु जनित कोई समस्या हो, कोई ऊपरी बाधा हो, बनता काम बिगड़ रहा हो, कोई अनजाना भय आपको भयभीत कर रहा हो अथवा ऐसा लग रहा हो कि किसी ने आपके परिवार पर कुछ कर दिया है, तो इसके निवारण के लिए
दशहरे के दिन एक जलदार जटावाला नारियल लेकर उसे काले कपड़े में लपेटें। 100 ग्राम काले तिल, 100 ग्राम उड़द की दाल तथा 1 कील के साथ उसे बहते जल में प्रवाहित करें। ऐसा करना बहुत ही लाभकारी होता है।

* जिन लोगों की कुंडली में कालसर्प दोष हो या राहु-केतु अशुभ फल दे रहे हों तो सूखा नारियल या काला-सफेद रंग का कंबल दान करना चाहिए। ऐसा समय समय पर करते रहने से उक्त दोष दूर हो जाता है।
* सफलता हेतु : यदि कोई काम काफी प्रयास के बावजूद सफल नहीं हो पा रहा तो आप एक लाल सूती का कपड़ा लें और उसमें रेशेयुक्त नारियल को लपेट लें और फिर बहते हुए जल में प्रवाह कर दें। जिस वक्त आप इसे जल में बहा रहे हों उस वक्त उस नारियल से सात बार अपनी कामना जरूर कहें।
* बीमारी या संकट हटाने हेतु : एक साबूत पानीदार नारियल लें और उसे अपने उपर से 21 बार वारकर किसी रावण दहन की आग में डाल दें। ऐसा घर के सभी सदस्यों के उपर से वारकर करेंगे तो उत्तम होगा।
इसके अलावा हनुमानजी के मंदिर में जाकर हनुमान चालीसा पढ़ें और उनको चोला अवश्य चढ़ाएं।
* स्थाई नौकरी हेतु : दशहरे के दिन नारियल के छिलकों को जलाकर भस्म तैयार करें और उसमें नारियल का ही पानी मिलाकर उसकी लुगदी बनाएं। फिर उस लुगदी की सात पुड़िया बनाएं। जिसमें से चार पुड़िया घर के चारों कोनों में रखें उनमें से एक पुड़िया घर की छत पर, एक पीपल की जड़ में और एक अपनी जेब में रखें। यह सावधानी रखें कि इस पर किसी की नजर और परछाई न पड़े।
जब सात दिन व्यतीत हो जाएं तो सभी पुड़िया एक जगह पर इकट्ठी कर लें। फिर उनमें से एक पुड़िया उस स्थान पर रखें जहां आप आजीविका कमाना चाहते हैं। वहां उसके द्वार के किसी कोने में छिपा कर रखें। हालांकि यह उपाय किसी जानकार से पूछकर करेंगे तो उचित होगा।
* संकट से मुक्ति हेतु : दशहरे के एक दिन पहले एक नारियल लें और उसको अपने सिर के पास रखकर सो जाएं। सुबह उठकर किसी नदी में नारियल प्रवाहित करें। ध्यान रहे कि नारियल प्रवाहित करते हुए इस मं‍त्र का भी जाप करें- ॐ रामदूताय नम:।
*श्रीगणेश और धन की देवी महालक्ष्मी का पूजन करें। पूजन में एक नारियल रखें। पूजा के बाद उस नारियल को तिजोरी में रख दें। रात के समय इस नारियल को निकालकर किसी राम मंदिर में अर्पित कर दें। भगवान श्रीराम से निर्धनता दूर करने की प्रार्थना करें।
* जीवनभर रहेंगे मालामाल : दशहरे के दिन गणेशजी और महालक्ष्मी की विधि विधान से चौकी सजाएं। चावल की ढेरी पर तांबे का कलश रखें और एक लाल वस्त्र में नारियल लपेटकर उस कलश में इस तरह रखें कि उसके आगे का भाग दिखाई दे। यह कलश वरुणदेव का प्रतीक है। अब दो बड़े दीपक जलाएं। एक घी का और दूसरा तेल का। एक दीपक चौकी के दाहिनी ओर रखें और दूसरा मूर्तियों के चरणों में। इसके अतिरिक्त एक छोटा दीपक गणेशजी के पास रखें। इसके बाद पूजा करें।

दशहरे पर करें मां अपराजिता का पूजन

इस पूजा के लिए घर से पूर्वोत्तर की दिशा में कोई पवित्र और शुभ स्थान को चिन्हित करें। यह स्थान किसी मंदिर, गार्डन आदि के आसपास भी हो सकता है। पूजन स्थान को स्वच्छ करें और चंदन के लेप के साथ अष्टदल चक्र (8 कमल की पंखुड़ियां) बनाएं।पुष्प और अक्षत के साथ देवी अपराजिता की पूजा के लिए संकल्प लें।अष्टदल चक्र के मध्य में ‘अपराजिताय नम:’ मंत्र के साथ मां देवी अपराजिता का आह्वान करें और मां जया को दाईं ओर क्रियाशक्त्यै नम: मंत्र के साथ आह्वान करें तथा बाईं ओर मां विजया का ‘उमायै नम:’ मंत्र के साथ आह्वान करें।इसके उपरांत ‘अपराजिताय नम’:, ‘जयायै नम:’ और ‘विजयायै नम:’ मंत्रों के साथ शोडषोपचार पूजा करें।अब प्रार्थना करें-निम्न मंत्र के साथ पूजा का विसर्जन करें।’हारेण तु विचित्रेण भास्वत्कनकमेखला। अपराजिता भद्ररता करोतु विजयं मम।’

रीवा – नेशनल हाइवे NH 30 के सिहागी पहाड़ में दो ट्रको की भिड़ंत में दोनों ट्रक ड्राइवर की मोत

रीवा त्योंथर ब्रेकिंग NH-30   के सोहागी पहाड़ में दो ट्रकों के बीच हुई सामने से जोरदार भिड़ंत दोनों ट्रकों के चालक और खलासी ट्रकों में फंसे ग्रामिणों और टोल कर्मियों की मदद से गैस कटर से ट्रक की वाडी काटकर निकाला गया चालक और खलासी को मौके पर पहुंची डायल 100 पुलिस की मदद से गंभीर घायलों को पंहुचाया गया त्योंथर अस्पताल घटना आज सुबह 4बजे की।

रीवा – कबाड़ की दूकान में सेलटेक्स का छापा

राज्य कर विभाग सतना की टीम का रीवा में छापा, रफत ट्रेडर्स कबाड़ की दुकान में चल रही कार्यवाही। सहायक आयुक्त आर एन साहू और संगीता गुप्ता के नेतृत्व में 15 सदस्य टीम खंगाल रही दस्तावेज। दुकान संचालक पर टैक्स चोरी की शिकायत मिलने पर की जा रही कार्यवाही। सिविल लाइन थाना क्षेत्र अंतर्गत ढेकहा में संचालित है रफत ट्रेडर्स नाम की कबाड़ की दुकान ।टैक्स चोरी का हो सकता है खुलासा

रीवा – पुराने बस स्टैंड स्थित वर्षो पुराने मड़वास हाउस को कोर्ट के मंजूरी के बाद नगर निगम ने गिराया

रीवा शहर के पुराने बस स्टैंड स्थित वर्षो पुराने बनाए मड़वास हाउस को आज नगर निगम अमले ने जमींदोज कर दिया गया। 2012 में ही नगर निगम द्वारा भवन को जर्जर घोषित कर दिया गया था बावजूद इसके वहा के किरायदारो द्वारा दुकाने खाली करने के बजाय कोर्ट से स्टे लेकर जमे हुए थे जो कभी भी बड़े हादसे का शिकार हो सकते थे कई बार नगर निगम कार्यवाही करने गया लेकिन दुकान संचालको द्वारा निगम अमले को बेरंग लौटा दिया गया। कोर्ट से मंजूरी मिलने के बाद आज निगम अमले ने जेसीबी लगाकर वर्षो पुराने मड़वास हाउस को ढहा दिया।

वर्षो पुराने अति जर्जर भवन मड़वास हाउस में कोर्ट का ह्वांला देकर बच रहे दुकानदारों को एक दिन पहले ही नगर निगम रीवा ने दुकानों को जल्द से जल्द खाली करने का अल्टीमेटम दे दिया था। ट्राफिक को देखते हुए नगर निगम अमला जर्जर भवन को रात में ही गिराने की तैयारी में था जिसके बाद पुलिस की मदत से सोमवार की सुवह १० बजे सभी दुकादारों ने अपनी अपनी दुकाने खाली कर दी थी जिसके बाद निगम अमले ने जेसीबी से जर्जर भवन को तोड़ना शुरू कर दिया। आप को बता दे की जर्जर मड़वास हाउस में लगे पिछले वर्ष से लगे स्टे को हाईकोर्ट ने निगम की रिपोर्ट पर खारिज कर दिया जिसके बाद आज निगम द्वारा जर्जर भवन को गिराने की तैयारी शुरू कर दी गई।