July 6, 2020

रीवा तथा शहडोल संभागों के 1.39 लाख प्रवासी मजदूरों की हुई घर वापसी

लॉकडाउन के कारण अन्य प्रदेशों में फंसे हुए प्रवासी मजदूरों का विशेष श्रमिक ट्रेनों से रीवा तथा शहडोल संभाग में आने का क्रम जारी है। दोनों संभागों में अब तक विशेष ट्रेनों से एक लाख 39 हजार प्रवासी मजदूर पहुंचे हैं। इन्हें रेलवे स्टेशन में स्वास्थ्य जांच के बाद विशेष वाहनों से उनके गन्तव्य तक पहुंचाया गया है। इस संबंध में रीवा तथा शहडोल संभाग के कमिश्नर डॉ. अशोक कुमार भार्गव ने बताया कि रीवा संभाग में अब 84 हजार 112 तथा शहडोल संभाग में 54 हजार 888 प्रवासी मजदूरों की विशेष श्रमिक ट्रेनों से घर वापसी हुई है। इनको सुरक्षित तथा सुविधाजनक तरीके से घर पहुंचाने के लिए सभी आवश्यक प्रबंध किये गये हैं।
कमिश्नर डॉ. भार्गव ने सभी प्रवासी मजदूरों से अनुरोध करते हुए कहा है कि प्रशासन द्वारा निर्धारित किये गये स्थलों तथा स्वास्थ्य केन्द्रों में सभी प्रवासी मजदूर अपने स्वास्थ्य की अनिवार्य रूप स्वास्थ्य की जांच करायें। स्वास्थ्य की जांच प्रवासी मजदूरों एवं उनके प्रियजनों की सुरक्षा के लिए आवश्यक है। सभी मजदूर तथा बाहर से आने वाला प्रत्येक व्यक्ति स्वास्थ्य जांच कराने के बाद भी 14 दिनों तक क्वारेंटाइन रहे। लॉकडाउन के निर्देशों तथा क्वारेंटाइन के निर्देशों का उल्लंघन करने पर महामारी नियंत्रण अधिनियम 1897 मध्यप्रदेश पब्लिक हेल्थ एक्ट आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005, मध्यप्रदेश कोविड-19 रेगुलेशन एक्ट 2020 तथा दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 188 के तहत प्रकरण दर्ज कर कार्यवाही की जायेगी।
कमिश्नर डॉ. भार्गव ने दोनों संभागों के सभी जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को प्रवासी मजदूरों को लेकर आने वाली ट्रेनों के लिए निर्धारित रेलवे स्टेशन एवं विशेष शिविरों में मजदूरों की स्वास्थ्य जांच के लिए पर्याप्त मेडिकल दल तैनात करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि रीवा तथा शहडोल संभागों में अब तक 2 लाख 30 हजार 646 व्यक्तियों की मेडिकल जांच की गयी है। इनमें से कोरोना के संक्रमण के संदिग्ध 2 हजार 150 व्यक्तियों की कोविड जांच करायी गयी है। जिसमें से 1878 व्यक्तियों के नमूने जांच में निगेटिव पाये गये हैं। जो व्यक्ति कोरोना की जांच में पॉजिटिव पाये गये हैं उन्हें विशेष चिकित्सा केन्द्रों तथा आईसोलेशन वार्डो में उपचार की पूरी सुविधा दी जा रही है। कमिश्नर डॉ. भार्गव ने प्रवासी मजदूरों तथा आमजनता से लॉकडाउन के प्रतिबंधों का पालन करने की अपील करते हुए कहा है कि सभी के सहयोग और त्याग से कोरोना के संक्रमण को सीमित रखने में हम सब अब तक सफल हुये हैं। सभी व्यक्ति घर से बाहर निकलते समय मास्क अथवा फेस कव्हर का उपयोग करें। बहुत आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकले बाजार में अथवा सार्वजनिक स्थलों में एक मीटर की फिजिकल दूरी का पालन करें। नियमित अंतराल के बाद साबुन से हाथ धोएं अथवा सेनेटाइजर का उपयोग करें। कोरोना वायरस से बचाव के लिए सावधानी बरते किंतु भयभीत न हो।