Breaking News

खुद को गान्धी का वंसज बताने वाले लोगो ने देस मे भोग की संस्कृति पैदा की : सांसद

रीवा | नगर निगम आयुक्त के खिलाफ भड़काऊ बयान देकर कल से सुर्खियों में आये रीवा सांसद जनार्दन मिश्रा ने आज भाजपा कार्यालय अवटल कुंज में पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि उन्हें अपने द्वारा दिये गए बयान का कोई खेद या पछतावा नहीं है।

आपको बता दें कि बीते दिन सांसद ने एक मामले को लेकर निगमायुक्त को जमीन में दफन कर देने का भड़काऊ बयान दिया था ।पत्रकारों के सवाल पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि अपने बयान पर उन्हें कोई पछतावा नहीं।उन्होंने कहा कि जनता के हित के लिए 17 साल की उम्र में मीसाबंदी बनकर तीन साल जेल में रहे हैं ।उनके शरीर की एक-एक हड्डी टूटी हुई है ।और अगर जिले में कोई भी अधिकारी. कर्मचारी रिश्वत की मांग करेगा मुझे सूचना मिली और शिकायत सही पाए जाने पर उसकी खैर नहीं।साथ ही उन्होंने निगमायुक्त और अपनी संपत्ति की जांच भी CBI से कराने की बात कही।

सांसद जनार्दन मिश्रा गान्धी जयंती के अवसर पर पूरे जिले मे 17 दिन की पदयात्रा करेंगे उन्होने इस दौरान कहा की मै चाहता हू इस देस का हर एक आदमी पद यात्रा करे गान्धी जी के विचारो,सिद्धांतो पर चले लेकीन ये देस का दुर्भागय की जो लोग खुद को गान्धी का वंसज बता रहे है उन लोगो ने देस मे भोग की संस्कृति पैदा करने का काम किया है । उन्होने कहा जवाहरलाल नेहरु अपने हाथो की बुनी टोपी,कुर्ता, धोती, जैकेट पहनते थे लेकीन जब प्रधान मन्त्री की शपथ लेनी थी तो चूणीदार पैजामा,घुटनो तक कोट और जेब मे गुलाब का फूल लगा लिया उस दिन से देस भोग की संस्कृति मे चला गया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *